छोटे व्यवसायों के लिए “पूँजी की लागत” का क्या महत्त्व हैं?

#1

मैं पूंजी की लागत के बारे में जानना चाहता हूं|

0 Likes

#2

लघु उद्योगों में वर्किंग कॅपिटल के प्रबंधन की ज़िम्मेदारी मालिक या फिर प्रमुख कर्मचारियों की होती है| दैनंदिन ज़रूरतों पर ध्यान देना मुश्किल होता है और कई बार पैसों की ज़रुरत और उपलब्धता में अंतर निर्माण हो जाता है|

इस कमी को पूरा करने के लिए उद्योग को तत्काल पूँजी की ज़रुरत होती है| इस स्थिति में लोन पर लगाया हुआ ब्याज दर मतलब “पूँजी की लागत” होती है|लोन पर जो ब्याज देना होता है उसकी तुलना में लोन का निवेश कर उसका प्रतिफल कितना मिलता है इसका मूल्यांकन उद्योग को करना पड़ता है|

पूँजी की लागत पर उद्योग के विशिष्ट कारणों का या बाहर की स्थिति का प्रभाव पड़ता है|

0 Likes